“आपसी भेदभाव को भूल कर एक जुट होने की ज़रुरत है”

दलित चिंतक भंवर मेघवंशी बात करते हैं कि किस तरह से दलित साहित्य और कलाएं दलित आंदोलन को मज़बूती दे रहे हैं। यह बातचीत 24 नवंबर, 2019 को दलित लेखक संघ, जनवादी लेखक संघ, जन संस्कृति मंच और न्यू सोशलिस्ट इनिशिएटिव द्वारा आयोजित "दलित आंदोलन: साहित्य और कलाएं" नामक कार्यक्रम में हुई।