• जो इस पागलपन में शामिल नहीं होंगे, मारे जाएँगे

    राजेश जोशी

    December 16, 2019


    मारे जाएँगे
     

    जो इस पागलपन में शामिल नहीं होंगे, मारे जाएँगे

    कठघरे में खड़े कर दिये जाएँगे
    जो विरोध में बोलेंगे
    जो सच-सच बोलेंगे, मारे जाएँगे

    बर्दाश्त- नहीं किया जाएगा कि किसी की कमीज हो
    उनकी कमीज से ज्या दा सफ़ेद
    कमीज पर जिनके दाग नहीं होंगे, मारे जाएँगे

    धकेल दिये जाएंगे कला की दुनिया से बाहर
    जो चारण नहीं होंगे
    जो गुण नहीं गाएंगे, मारे जाएँगे

    धर्म की ध्व जा उठाने जो नहीं जाएँगे जुलूस में
    गोलियां भून डालेंगी उन्हें, काफ़िर करार दिये जाएँगे

    सबसे बड़ा अपराध है इस समय निहत्थे और निरपराधी होना
    जो अपराधी नहीं होंगे, मारे जाएँगे


     

    First published in NewsClick.

    Donate to the Indian Writers' Forum, a public trust that belongs to all of us.