• उदय प्रकाश : “मारना”

    आई सी ऍफ़ टीम

    October 18, 2019

    मारना

    आदमी
    मरने के बाद
    कुछ नहीं सोचता ।

    आदमी
    मरने के बाद
    कुछ नहीं बोलता.

    कुछ नहीं सोचने
    और कुछ नहीं बोलने पर
    आदमी
    मर जाता है ।

    Murder

    After he dies,
    he thinks
    nothing.

    After he dies,
    he speaks
    nothing.

    When he does not
    think or speak,
    he dies.

    (Translated from Hindi by Akhil Katyal)


    और पढ़ें:
    एक कविता कश्मीर के लिए: सर्वेश्वर दयाल सक्सेना 
    गौ माता

    उदय प्रकाश चर्चित कवि, कथाकार, पत्रकार और फिल्मकार हैं।
    अखिल कत्याल दिल्ली स्थित लेखक और अनुवादक हैं। उनकी कविताओं की पहली किताब, नाइट चार्ज एक्स्ट्रा को राइटर्स वर्कशॉप द्वारा 2015 में प्रकाशित किया गया था। उनके पास लंदन के स्कूल ऑफ ओरिएंटल एंड अफ्रीकन स्टडीज से डॉक्टरेट है, और वर्तमान में अंबेडकर विश्वविद्यालय में पढ़ाते हैं।

    Donate to the Indian Writers' Forum, a public trust that belongs to all of us.