• हिंदी अब धमकी की भाषा बनती जा रही है : मंगलेश डबराल

    न्यूज़क्लिक रिपोर्ट

    July 31, 2019

    “हिंदी में कविता, कहानी, उपन्यास बहुत लिखे जा रहे हैं, लेकिन सच यह है कि इन सबकी मृत्यु हो चुकी है हालांकि ऐसी घोषणा नहीं हुई है और शायद होगी भी नहीं क्योंकि उन्हें खूब लिखा जा रहा है। लेकिन हिंदी में अब सिर्फ 'जय श्रीराम' और 'बन्दे मातरम्' और 'मुसलमान का एक ही स्थान, पाकिस्तान या कब्रिस्तान' जैसी चीज़ें जीवित हैं। इस भाषा में लिखने की मुझे बहुत ग्लानि है. काश, मैं इस भाषा में न जन्मा होता!” ये कहना है हिंदी के महत्वपूर्ण कवि, लेखक मंगलेश डबराल का। और इसी को लेकर हिंदी जगत में घमासान है। लेकिन बकौल मंगलेश जी “ये हिंदी का विरोध या तिरस्कार नहीं, बल्कि इस बात की चिंता और पीड़ा है कि हिंदी में अब वो साहित्य नहीं रचा जा रहा है जो इस सबका प्रतिकार कर सके।” न्यूज़क्लिक ने इस पूरे मुद्दे पर उनसे विशेष बातचीत की।


    सौजन्य न्यूज़क्लिक.

    Donate to the Indian Writers' Forum, a public trust that belongs to all of us.