संघ के मनगढ़ित इतिहास और बढ़ते सांप्रदायिक खतरे पर इतिहासकार इरफ़ान हबीब

संघ के मनगढ़ित इतिहास और बढ़ते सांप्रदायिक खतरे पर इतिहासकार इरफ़ान हबीब

लगातार तर्कशील एवं प्रगतिशील ताकतों पर हो रहे हमलों के विरोध में १ नवम्बर को दिल्ली के मावलंकर सभागार में आयोजित ‘प्रतिरोध’ नामक सभा में इतिहासकार इरफ़ान हबीब ने अपनी बात रखी. हबीब ने इतिहास के साम्प्रदायिकरण में सत्ता की भागीदारी पर चर्चा की. हबीब के शब्दों में, “ जब भी कोई फ़ासिस्ट शक्ति बढती…