“हम लड़ेंगे साथी”: गौतम नवलखा

यह कविता कुछ दिनों पहले रिकॉर्ड की गई थी.