नसीरुद्दीन शाह की आवाज़ में हैदरी और फैज़ की नज़्में

CAA-NPR-NRC के खिलाफ 1 मार्च को जंतर मंतर पर होने वाले लेखकों और कलाकारों के सम्मलेन के लिए कलाकार नसीरुद्दीन शाह ने दो नज़्मे पढ़ीं।  एक फैज़ की आज बाज़ार में पा-ब-जौलाँ चलो और हुसैन हैदरी की हिंदुस्तानी मुसलमां |   नसीरुद्दीन शाह किन्ही कारणों से इस कार्यकम में हिस्सा नहीं ले पाएंगे।