हम काग़ज़ नहीं दिखाएंगे

तानाशाह आ के जाएंगे
हम काग़ज़ नहीं दिखाएंगे

तुम आँसू गैस उछालोगे
तुम ज़हर की चाय उबालोगे
हम प्यार की शक्कर घोल के उसको
गट गट गट पी जाएंगे
हम काग़ज़ नहीं दिखाएंगे

ये देश ही अपना हासिल है
जहाँ राम प्रसाद भी बिस्मिल है
मिट्टी को कैसे बांटोगे
सबका ही ख़ून तो शामिल है

तुम पुलिस से लट्ठ पड़ा दोगे
तुम मेट्रो बंद करा दोगे
हम पैदल पैदल आएंगे
हम काग़ज़ नहीं दिखाएंगे

हम मंजी यहीं बिछाएंगे
हम काग़ज़ नहीं दिखाएंगे

हम संविधान को बचाएंगे
हम काग़ज़ नहीं दिखाएंगे

हम जन गण मन भी गाएंगे
हम काग़ज़ नहीं दिखाएंगे

तुम जात पात में बांटोगे
हम भात मांगते जाएंगे

हम काग़ज़ नहीं दिखाएंगे
हम काग़ज़ नहीं दिखाएंगे

-वरुण ग्रोवर 

 

In Mumbai, 10,000 Women sing "हम कागज़ नहीं दिखाएंगे"

 

Kagoj Amra Dekhabo na

 

Qawwali version of "हम कागज़ नहीं दिखाएंगे"

 

Hum Kaagaz Nahi Dikhaayenge | Aisi Taisi Democracy