“मनुस्मृति मन में बसी है और संविधान का मुखौटा पहन रखा है”: हीरालाल राजस्थानी

न्यूज़क्लिक और इंडियन कल्चरल फोरम के साथ इस बातचीत में मूर्तिकार व दलित लेखक संघ के अध्यक्ष हीरालाल राजस्थानी मौजूदा हालात में कलाकारों की भूमिका व योगदान; कला की शिक्षा में खामियां; बाबा साहब अंबेडकर की विचारधारा; और अन्य विषयों पर बात कर रहे हैं। वह नागरिकता संशोधन क़ानून से हो रहे संविधान के उलंघन की निंदा भी करते हैं और कहते हैं कि समाज में चेतना की आवश्यकता है।