• साहित्य और संघर्ष : लोक साहित्य

    आई सी ऍफ़ टीम

    November 4, 2019

    प्रगतिशील लेखक संघ के लेखकों की तहरीरों को पढ़ते हुए हुए, संजय मुट्टू और समन हबीब ने "आसमां हिलता है जब गाते हैं हम" कार्यक्रम को रूप दिया, जो 13 अक्टूबर को स्टूडियो सफ़दर, दिल्ली में आयोजित किया गया।


    और पढ़ें | साहित्य और संघर्ष: क्रन्तिकारी पहल की शुरुआत


    1920-30 के दशक का साहित्य अमीरों द्वारा लिखा जाता था और अमीरों के लिए लिखा जाता था। प्रगतिशील लेखकों ने इसकी आलोचना की और इस सूरत-ए-हाल को बदलने के लिए इन लेखकों ने दलित विमर्श का शुरुआती प्रवर्तन किया। इसके साथ वह IPTA और सिनेमा से भी जुड़े। महिलाओं के हक़, जातिवाद, किसानों और मज़दूरों की दुर्दशा, वर्ग संघर्ष, साम्प्रदायिकता, समस्याओं से जूझने का सामूहिक प्रयास — यह सब पूरे मुल्क के मुद्दे माने गए और नए सिनेमा में दर्शाये भी गए। 


    और पढ़ें | साहित्य और संघर्ष: 1941 AIR मुशायरा


    इस भाग में हम सुनेंगे कृष्ण चंदर की कहानी "कालू भंगी" का एक अंश, साहिर लुधियानवी की लिखी नज़्म जो बाद में प्यासा फ़िल्म का एक गीत बनी, और ख़्वाजा अहमद अब्बास की बनाई फ़िल्म धरती के लाल का वामिक जौनपुरी द्वारा लिखा एक गीत। 


     

    Donate to the Indian Writers' Forum, a public trust that belongs to all of us.