उदय प्रकाश : “मारना”

मारना

आदमी
मरने के बाद
कुछ नहीं सोचता ।

आदमी
मरने के बाद
कुछ नहीं बोलता.

कुछ नहीं सोचने
और कुछ नहीं बोलने पर
आदमी
मर जाता है ।

Murder

After he dies,
he thinks
nothing.

After he dies,
he speaks
nothing.

When he does not
think or speak,
he dies.

(Translated from Hindi by Akhil Katyal)


और पढ़ें:
एक कविता कश्मीर के लिए: सर्वेश्वर दयाल सक्सेना 
गौ माता