• इंस्पेक्टर सुबोध के हत्यारोपियों का स्वागत : अपने दाग़ अच्छे हैं!

    सत्यम् तिवारी

    August 27, 2019

    Image courtesy Indian Express

    क फ़िल्म है गैंग्स ऑफ वासेपुर (Gangs Of Wasseypur) जिसका एक सीन है जब फ़ैज़ल ख़ान (नवाज़ुद्दीन सिद्दीक़ी) कई आपराधिक मामलों से छूट कर जेल से बाहर आता है और उसके स्वागत के लिए एक बड़ा सा जश्न मनाया जाता है। फ़ैज़ल अपराधी है सबको पता है लेकिन इस सीन में उसके द्वारा किए गए सभी अपराधों, सभी हत्याओं का जश्न मनाया गया है। ये सीन सिर्फ़ फ़िल्म का सीन नहीं है, ये हक़ीक़त भी है। ये एक सीन इन दिनों दक्षिणपंथी संगठनों द्वारा लगातार दोहराया जा रहा है। जब भी किसी भी सांप्रदायिक मामले का आरोपी जेल से बाहर आता है तो ऐसे तत्व उस अपराधी का स्वागत करते हैं, उसका जश्न मनाते हैं।

    हाल ही में एक वीडियो और कई तस्वीरें सोशल मीडिया पर फैल रही हैं जिनमें बुलंदशहर में इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह की हत्या मामले के आरोपियों का स्वागत किया जा रहा है, भारत माता की जय और जय श्री राम के नारे लगाए जा रहे हैं। ये आरोपी एक हिंदुत्ववादी संगठन से ताल्लुक रखते हैं और अभी-अभी बेल पर बाहर आए हैं। 

    आपको मालूम है कि दिसंबर, 2018 में सुबोध कुमार सिंह की भीड़ ने पीट-पीट कर हत्या कर दी थी। दरअसल बुलंदशहर में कई गौ-गुंडे, गौ-कशी रोकने के नाम पर अराजकता फैला रहे थे। इस हिंसा को रोकने इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह गए थे जिसके बाद भीड़ ने उन्हें पीट पीट कर मार डाला। उस समय भी इस घटना का एक वीडियो वायरल हुआ था।

    बीजेपी का 'अपराध-प्रेम'!

    ये अकेला मामला नहीं है जब किसी मॉब लिंचिंग या सांप्रदायिक हिंसा के मामले में आरोपियों का इस तरह स्वागत किया गया हो। आपको याद है झारखंड में पूर्व केंद्रीय मंत्री जयंत सिन्हा द्वारा अलीमुद्दीन अंसारी के हत्यारोपियों को ज़मानत मिलने पर किस तरह फूल-मालाओं से स्वागत किया गया था। 

    ऐसा भी नहीं है कि ऐसे आरोपी पहली बार छोड़े गए हों।

    इस मामले में तो शिखर अग्रवाल सहित 2 अन्य आरोपी बेल पर बाहर हुए हैं, लेकिन ऐसे भी मामले देखे गए हैं जब हत्या जैसे मामलों में आरोपियों को छोड़ दिया गया है। हाल ही में पहलू ख़ान की हत्या के सभी आरोपियों को कोर्ट ने निर्दोष बता दिया है।

    मौजूदा बीजेपी सरकार के पहले कार्यकाल की शुरुआत 2014 में हुई थी और उस चुनाव से ऐन पहले 2013 में उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर में दंगे हुए थे जिसमें कई मुसलमानों पर हिंसा की गई थी। हिंदुवादी संगठनों के लोगों को गिरफ़्तार भी किया गया था, लेकिन हाल ही में उन सब आरोपियों को भी छोड़ दिया गया है।

    इतना ही नहीं दंगे के आरोपी विधायक संगीत सोम से सब मुकदमे वापस लेने की तैयारी की जा रही है तो एक दूसरे आरोपी सुरेश राणा को राज्यमंत्री से प्रमोशन कर कैबिनेट मंत्री बना दिया गया है।

    आपको ये भी याद होगा कि योगी आदित्यनाथ के रैली में दादरी में अखलाक की हत्या के आरोपी को देखा गया था। इसके अलावा प्रज्ञा सिंह ठाकुर जो कि एक आतंकवादी मामले में आरोपी हैं, उन्हें संसद में पहुंचाने के लिए चुनाव में उतारा गया। 

    हाल ही में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक बयान दिया था जिसमें कहा गया था कि हिन्दू कभी धर्म के नाम पर हिंसा नहीं करते। वो अगर 2014 से अब तक की हिंसा का आंकड़ा देख लेते तो उनका ये भ्रम शायद दूर हो जाता।

    पुलिस भी सुरक्षित नहीं!

    देश में बढ़ रहे इन सांप्रदायिक और लिंचिंग के मामलों से बचने के लिए लोग पुलिस के पास जाएंगे लेकिन पुलिस की सुरक्षा का क्या? सुबोध कुमार सिंह जो कि एक पुलिस इंस्पेक्टर थे, उन्हें भीड़ ने मार दिया, क्या हुआ? कुछ नहीं! कोई ठोस कार्रवाई तक नहीं हुई है।
    सुबोध एक इंस्पेक्टर थे और नहीं बच सके। हाल ही में गुजरात के एक मुसलमान हवलदार की कुछ लड़कों ने दाढ़ी खींची, जय श्री राम बोलने को कहा और उन्हें पीटा गया। पुलिस, सुरक्षा बल जिनसे उम्मीद होती है सुरक्षा की, वे ख़ुद असुरक्षित और लाचार नज़र आ रहे हैं।

    ये नारों का दौर है

    जब कोई इतिहासकार कई साल बाद हिंदुस्तान में इस दौर की कहानी लिख रहा होगा तो उसे काले शब्दों में ये लिखना पड़ेगा कि "ये देश और भगवान के नारों के नाम पर क़त्ल करने का दौर था!”

    भारत माता की जय, जय श्री राम, वंदे मातरम, ये सब नारे आजकल भक्ति और देशप्रेम का नहीं, बल्कि हिंसा का प्रतीक बन चुके हैं। लोगों को जय श्री राम न बोलने पर मारा जा रहा, भारत माता की जय न बोलने पर देशद्रोही बताया जा रहा है। ऐसे कई मामले सामने आ चुके हैं जहाँ एक नारा न लगाने के नाम पर अल्पसंखयकों पर हमले किए गए हैं, यहाँ तक कि उनकी हत्या भी की गई है।

    लेकिन ये नारे शुरू कहाँ से होते हैं? दंगे, सांप्रदायिक हिंसा और सांप्रदायिक नफ़रत के बारे में एक आम सी बात ये है कि इस सभी मसलों की शुरुआत सड़क पर नहीं होती, संसद में होती है। यानी ये उन नेताओं, उन संगठनों द्वारा शुरू किए जाते हैं जिन्हें इससे कोई निजी राजनीतिक फ़ायदा है। ये नेता इन सब नारों, इस नफ़रत को अपने बयानों, अपनी रैलियों से प्रचलन में लाने का काम करते हैं, वहीं से होता हुआ ये सब कुछ सड़क तक पहुंचता है और कोई रमेश किसी रिज़वान को मारने लगता है।

    इस दौर में मीडिया का जितना पतन देखा गया है उतना किसी भी देश में कभी नहीं देखा गया होगा। आज एंकर अपने चैनल पर हिंदुवादी संदेश फैलाने का काम कर रहा है और लोगों को उकसाता हुआ नज़र आ रहा है। इस समय नफ़रत है जिसे फैलाना सबसे आसान काम है।

    नफ़रतों के दौर का क्या होगा अंत?

    बीजेपी को सत्ता में आए 6 साल हो गए हैं, इसके अलावा देश के 70 प्रतिशत राज्यों में बीजेपी की सरकार है। बीजेपी की सरकार है मतलब हिंदुवादी संगठन बहुत मज़बूत हैं और धर्म के नाम पर गुंडों का भी बोलबाला है। आज अपराधियों का जश्न मनाना सामान्य हो गया है। सुबोध कुमार सिंह की हत्या के आरोपियों को बेल मिलना, पहलू ख़ान के आरोपियों का छूट जाना, एक बहुत बड़ा सवाल पैदा करता है कि "क्या इस सरकार से पुलिस भी डरी हुई है और असुरक्षित महसूस कर रही है?”

    ये सवाल निराश करने वाला लग सकता है लेकिन ये पूछना ज़रूरी है, कि क्या नफ़रतों के इस दौर का अंत हो सकेगा? 


    First published in Newsclick.

    Donate to the Indian Writers' Forum, a public trust that belongs to all of us.