• “लिखो, कि अभी सपने देखने की मनाई नहीं हुई है”

    सोनाली के साथ अशोक वाजपेयी की बातचीत

    May 16, 2019

    अशोक वाजपेयी आज के हिंदी साहित्य जगत में एक जाना माना नाम है। निबंधकार, समीक्षक, एवं कवि होने के साथ-साथ, वे भारतीय प्रशासनिक सेवा के एक पूर्वाधिकारी भी रह चुके हैं । उनकी कविताओं के लिए सन् १९९४ में उन्हें भारत सरकार द्वारा साहित्य अकादमी पुरस्कार से नवाज़ा गया। वर्तमान में वे ललित कला अकादमी के अध्यक्ष हैं। न्यूज़क्लिक की सोनाली के साथ इस बातचीत में अशोक वाजपेयी, कविता का सामाजिक और व्यक्तिगत जीवन में महत्त्व बताते हैं, साथ ही अपनी विभिन्न नई-पुरानी कविताओं पर चर्चा करते हैं| 


    और पढ़ें:
    “जो संगीत हम बना रहे हैं, वो समाज से ही ले कर हमने समाज को दिया है”
    हमने भी जां गंवाई है इस मुल्क की ख़ातिर…

    Donate to the Indian Writers' Forum, a public trust that belongs to all of us.