• जनता का शायर : अदम गोंडवी

    न्यूज़क्लिक प्रोडक्शन

    December 20, 2018

    अदम गोंडवी : 22 अक्टूबर, 1947-18 दिसंबर, 2011 “धरती की सतह पर” खड़े होकर “समय से मुठभेड़” करने वाले शायर अदम गोंडवी को आज याद करना बेहद ज़रूरी है। क्योंकि आज अदम की ही तरह पुरज़ोर आवाज़ में हुक्मरान से एक बार फिर ये सवाल पूछने की ज़रूरत है, “सौ में सत्तर आदमी फ़िलहाल जब नाशाद है दिल पे रख के हाथ कहिए देश क्या आज़ाद है”


     

    First published in Newsclick.

    Donate to the Indian Writers' Forum, a public trust that belongs to all of us.