“भारतीय मीडिया और सिनेमा ‘कास्ट घेटो’ हैं”

न्यूज़क्लिक और इन्डियन कल्चरल फ़ोरम ने युवा फ़िल्मकार सोमनाथ वाघमारे से भीमा कोरेगाँव पर बनी उनकी फिल्म तथा भारतीय मीडिया जगत के विषय में बात कीI सोमनाथ ने बताया कि भारतीय सिनेमा और मीडिया में तथाकथित उच्च जातियों का वर्चस्व रहा है और अभी भी बरक़रार हैI इसलिए समाज के हाशिये पर खड़े तबकों का इनमें प्रतिनिधित्व न के बराबर हैI


Also see:

Somnath Waghmare on Bhima Koregaon and the Fight against Brahminism: The filmmaker in conversation with Lourdes M Supriya Watch: Battle of Bhima Koregaon: An Unending Journey

Divya Bharathi: “I don’t want people to be moved by my work, I want them to be politicised”

Living Ambedkar Jayanti: In Conversation with Vira Sathidar