अख़लाक़ के क़त्ल के तीन साल बाद इन्साफ अब भी एक सपना

अख़लाक़ के क़त्ल के तीन साल बाद इन्साफ अब भी एक सपना

28 सितम्बर को उत्तर प्रदेश के बिसारा गाँव के मोहम्मद अख़लाक़ की लिंचिंग को 3 साल पूरे हो जायेंगे। इसे 'दादरी लिंचिंग' के नाम से भी जाना जाता है और यह 2014 में मोदी सरकार के सत्ता में  आने के बाद पहला लिंचिंग का मामला था जो राष्ट्रीय मुद्दा बनकर उभरा। लेकिन तीन साल बाद…

लेनिन की सिर्फ मूर्ति टूटी है, उनके विचार नहीं

लेनिन की सिर्फ मूर्ति टूटी है, उनके विचार नहीं

  बीजेपी और IPFT के त्रिपुरा की सत्ता में काबिज़ हो जाने के बाद से वहाँ लगातार CPI(M) के दफ्तरों और पार्टी से जुड़े लोगों पर लगतार हमले हो रहे हैं I CPI(M) का आरोप है कि इस बीच पुलिस मूक दर्शक बनकर तमाशा देख रही है I इसी बीच कल शाम ये खबर आयी…