• मेरा भारत भयो महान, रे

    सलिल चतुर्वेदी

    August 14, 2018

    Image Courtesy: Nituparna Rajbongshi

    मेरा भारत भयो महान, रे

    झमा-झम नदियों से निकले केमिकल का ऊफ़ान, रे
    पेस्टिसायड पी-पी कर आत्महत्या करे किसान, रे
    हस्पतालों में होता नन्हें बच्चों का बलिदान, रे
    अडानी अम्बानी की भैय्या खूब चली दुकान, रे
    अरे नाचो गाओ झूमो कूदो, मेरा भारत भयो महान, रे

    एस.इ.ज़ेड. से मिल रहा है प्रगती का प्रमाण, रे
    गाँव-गाँव उद्योगी कूड़े का बनता पीकदान, रे
    झुग्गी हटा कर बनेगा स्टेडीयम आलीशान, रे
    बाबू ले गया बाढ़ के पैसे, खबर ना कानों कान, रे
    अरे नाचो गाओ झूमो कूदो, मेरा भारत भयो महान, रे

    कॉल सेंटर में शॉन के नाम से बोलता अपना शान, रे
    होम लोन से जुटा लेगा निजी फ़्लैट या मकान, रे
    बिल्डरों ने धरती काटी, किया सब का कल्याण, रे
    कहाँ गए जंगल सारे, तू मत हो हैरान, रे
    अरे नाचो गाओ झूमो कूदो, मेरा भारत भयो महान, रे

    गोल्डन क्वाड्रिलैटरल का सपना देखें मंत्री प्रधान, रे
    नदियों को जोड़ने का देते हैं फ़रमान, रे
    नया युग है नयी दिशा है, तू बुरा मत मान ,रे
    अब तो रामलीला में भी होता आइटम नम्बर गान, रे
    अरे नाचो गाओ झूमो कूदो, मेरा भारत भयो महान, रे


     

    गोवा में आधारित, सलिल चतुर्वेदी, अंग्रेजी और हिंदी में लघु कथा और कविताएं लिखते हैं। उनकी नयी कविताओं की पुस्तक , 'Ya Ra La Va Sha Sa Ha' हाल ही में लॉन्च की गई है।

    Donate to the Indian Writers' Forum, a public trust that belongs to all of us.