• ‘हम फिर -फिर जी उठेंगे’

    प्रतिरोध का सिनेमा का पहला नागपुर फ़िल्म फेस्टिवल

    संजय जोशी

    September 16, 2017

                                                                                                       Image courtesy: Sanjay Joshi         

     

    15 से 17 सितम्बर 2017, धनवटे नेशनल कालेज, कांग्रेस नगर, नागपुर 

    2006 से शुरू हुआ प्रतिरोध का सिनेमा अभियान अब 12 साल पुराना हो चला है. बारह साल पुराने होने के बावजूद जैसे ही किसी नई जगह में हमारे अभियान की शुरुआत होती है सारी पिछली कवायदें फिर से करनी होती हैं . मसलन, जुगाड़ से बनाए सिनेमा हाल में पर्याप्त अँधेरा हो पा रहा है कि नहीं , साउंड सिस्टम ठीक , बिजली गई तो जनरेटर का क्या होगा, मेहमानों के रहने का क्या होगा, हाल में पीने का पानी तो रह ही गया , बैनर , पोस्टर , प्रेस रिलीज़ और बहुत सारी छोटी -छोटी बातें . लेकिन फेस्टिवल शुरू होते -होते यह सब हो जाता है बल्कि मजे से होता है . और जो सबसे ज्यादा मजा आता है वह है एक नए शहर में नए तरह से सिनेमा देखने का सिलसिला शुरू कर पाना .

    दोस्तो, ऐसा ही कुछ -कुछ आजकल नागपुर के उत्साही सिने प्रेमियों और प्रतिरोध का सिनेमा की टीम के बीच चल रहा है . शहर में पोस्टर चिपकने शुरू हो गये  हैं , फेसबुक -व्हाट्स एप पर प्रचार की गति बढ़ गयी है . फिल्मों की फाइलें चेक की जा रही हैं . पुस्तक प्रदर्शनी के लिए घुमंतू पुस्तक मेले की किताबें नागपुर पहुँच चुकी हैं . खाने , चाय -नाश्ते सब का इंतज़ाम पक्का किया जा रहा है. 

    नीचे दिए गए शिड्यूल के हिसाब धनवटे नेशनल कालेज पहुंचिये सिनेमा की एक नयी दुनिया से आपकी मुलाकात होगी . तब शायद आप यह भी पूछें कि क्यों इतने दिन इस दुनिया से मरहूम रहे .

    अपने हर आयोजन की तरह इस आयोजन में भी प्रवेश एकदम मुफ्त है. चूंकि पूरा आयोजन व्यक्तिगत सहयोग से हो रहा है इसलिए हम आपसे यह अपील जरुर करेंगे कि अगर आपको अच्छा लगे तो आयोजकों को खोज कर उनकी आर्थिक मदद करें ताकि हम बार -बार इसे दुहरा सकें .

    आइये , प्रतिरोध का सिनेमा के पहले नागपुर फ़िल्म फेस्टिवल को एक यादगार आयोजन बनायें .

    Donate to the Indian Writers' Forum, a public trust that belongs to all of us.