• The Nation Hangs its Head at Salik and Pahlu’s Murders – Rihai Manch Lucknow

    Modi–Yogi must answer whether the nation will be guided by the Manusmriti or by Babasaheb's constitution

    सालिक और पहलू की हत्या पर शर्मिंदा है मुल्क – रिहाई मंच

    मोदी-योगी बताएं देश मनुस्मृति से चलेगा या फिर बाबा साहेब के संविधान से

    भाजपा शासित राज्यों में हिंदुत्ववादी संगठन चला रहे हैं समानांतर सरकार

    गौ हत्या के नाम पर देश की संसद को गुमराह कर रही है मोदी सरकार

    लखनऊ 7 अप्रैल. रिहाई मंच ने झारखण्ड के गुमला में मुहम्मद सालिक और राजस्थान के अलवर में गौ रक्षकों द्वारा पहलू खान की निर्मम हत्या की निंदा करते हुए कहा है कि भाजपा शासित राज्यों में हिंदुत्ववादी संगठन समानांतर सरकार चला रहे हैं, जो कि मानवता को भी शर्मसार कर देने वाला है। मंच ने कहा कि झारखण्ड में जिस तरह से पहलू खान की हत्या के बाद मुहम्मद सालिक को गौ रक्षकों ने पीट -पीटकर मार डाला उसने यह साबित कर दिया है कि भाजपा शासित राज्यों में कानून-व्यवस्था का क्या हाल है। मंच ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री आदित्यनाथ द्वारा हिन्दू राष्ट की पैरोकारी करने पर टिप्पणी करते हुए कहा कि भाजपा शासन आने के बाद जिस तरह से दलित, पिछड़े और अल्पसंख्यकों पर हमले बढे हैं, संविधान निर्माता बाबा साहेब अम्बेडकर की मूर्ति तोड़ी जा रही है दरअसल यही भाजपा और योगी के हिन्दू राष्ट्र की तस्वीर है। 

    मंच महासचिव राजीव यादव ने कहा कि झारखण्ड के गुमला में मुहम्मद सालिक और अलवर में गौ रक्षकों द्वारा मारे गए पहलू खान की निर्मम हत्या की निंदा जब पूरी दुनिया में हो रही है तब ऐसे स्थिति में भाजपा नेताओं द्वारा देश की संसद में जिस तरह से पहलू खान की हत्या पर लीपापोती की जा रही हैं वह बेहद शर्मनाक है। पहलू खान की हत्या के बाद हर उस भारतीय का सर शर्म से झुक जायेगा जो भारतीय संविधान में यकीन रखता है लेकिन भाजपा नेता जिस तरह से निर्लज्जता की सीमा पार करके बयानबाजी कर रहे हैं, वह और भी शर्मनाक है।

    रिहाई मंच महासचिव ने कहा की उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री आदित्यनाथ योगी ने जिस तरह हिन्दू राष्ट्र की खुलेआम बात कर रहे है उनको और नरेंद्र मोदी को बताना चाहिए कि यह देश मनुस्मृति से चलेगा या फिर बाबा साहेब द्वारा लिखे गए संविधान से चलेगा। 

     

    द्वारा जारी 

    अनिल यादव

    प्रवक्ता 

    रिहाई मंच लखनऊ

    Donate to the Indian Writers' Forum, a public trust that belongs to all of us.